CBSE Term 1 Exam 2021-2022: CBSE exam will be offline only, Supreme Court dismisses petition demanding exam in hybrid mo

छात्रों ने याचिका में कहा था कि परीक्षा हाईब्रिड मोड (ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों) में होनी चाहिए। याचिका में सुप्र??


 




सीबीएसई और सीआईएससीई की टर्म-1 परीक्षा सिर्फ ऑफलाइन मोड से ही होगी। सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को सीबीएसई और सीआईएससीई के छात्रों द्वारा टर्म-1 की परीक्षाओं को हाइब्रिड मोड ( ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों ) में कराने की मांग वाली याचिका को खारिज कर दिया। शीर्ष अदालत ने कहा कि सीबीएसई बोर्ड परीक्षा 16 नवंबर से शुरू हो चुकी है और सीआईएससीई परीक्षा 22 नवंबर से शुरू होने वाली है, ऐसे में इनमें दखल देना और पूरी प्रक्रिया में बाधा डालना ठीक नहीं होगा। आपको बता दें कि कई छात्रों ने सीबीएसई और आईसीएसई की 10वीं और 12वीं की टर्म-1 परीक्षा सिर्फ ऑफलाइन माध्यम से (कक्षा में बैठकर) आयोजित करने के विरोध में उच्चतम न्यायालय का दरवाजा खटखटाया था। छात्रों ने कोरोना महामारी के बढ़ने की आशंका का हवाला देते हुए वैकल्पिक व्यवस्था के तौर पर ऑनलाइन माध्यम से भी परीक्षा कराने की मांग की थी।
 
 

सुनवाई के दौरान गुरुवार को सीबीएसई ने कहा कि ऑफलाइन परीक्षाएं पूरी सुरक्षा के साथ आयोजित की जा रही हैं। जहां पिछले साल 6500 केंद्र थे, वहां इस बार इन्हें बढ़ाकर 15000 कर दिया गया है। अब एक कक्षा में 40 की बजाय सिर्फ 12 स्टूडेंट्स ही एग्जाम देंगे। परीक्षा की अवधि भी 3 घंटे से घटाकर 90 मिनट कर दी गई है। 

छात्रों ने याचिका में कहा था कि परीक्षा हाईब्रिड मोड (ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों) में होनी चाहिए। याचिका में सुप्रीम कोर्ट से सीबीएसई और सीआईएससीई को यह निर्देश देने का अनुरोध किया गया था कि वह टर्म-1 परीक्षाएं कोविड-19 महामारी के बीच हाइब्रिड मोड में आयोजित करने के लिए एक संशोधित परिपत्र जारी करे। 

अधिवक्ता सुमंत नूकला द्वारा दायर याचिका में कहा गया था कि आगामी परीक्षाएं हाइब्रिड मोड में आयोजित की जाएं, जिसमें ऑफलाइन और ऑनलाइन परीक्षा के बीच चयन करने का विकल्प हो।

 


Bhuvan Web

13704 Blog posts

Comments